Trade Media
     

राजनीति

केरल को भारत की राजनीतिक प्रयोगशाला कहा जा सकता है । चुनाव के द्वारा कम्यूनिस्ट पार्टी का सत्ता में आना और विभिन्न पार्टियों के मोर्चों का गठन तथा उनका शासक बनना आदि अनेक राजनीतिक प्रयोग पहली बार  केरल में ही हुआ । देश में मशीनी मतपेटी का प्रथम प्रयोग भी केरल में हुआ । केरल में 140 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र और 20 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र हैं । विधान सभा में आंग्लो - इंडियन समुदाय के एक प्रतिनिधि को नामित किया जाता है । केरल में अनेक राजनीतिक दल तथा उनके संपोषक संगठन भी हैं । यथा - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेज़, मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी, जनतादल (एस), मुस्लिम लीग, केरल कांग्रेज़ (एम), केरल कॉग्रेज़ (जे) आदि । सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के श्रमिक, विद्यार्थी, महिला, युवा, कृषक और सेवा संगठन भी सक्रिय हैं । ट्रेड यूनियनों की संख्या आवश्यकता से अधिक बढ रही है । 1973 में केरल की पंजीकृत ट्रेड यूनियनों की संख्या 1680 थी । यह 1996 में 10326 हो गई । नौकरी करने वाले हर 3000 व्यक्तियों के लिए एक ट्रेड यूनियन के हिसाब से राज्य में ट्रेड यूनियन बने हैं ।

केरल राज्य के आविर्भाव के बाद राज्य में 13 चुनाव हुए । बीस मत्रिमंण्डल तथा 12 मुख्यमंत्री हुए हैं । 5 अप्रैल 1957 को ई. एम. एस. नंपूतिरिप्पाड के नेतृत्व में प्रथम मंत्रि मण्डल अधिकार में आया ।

केरल की राजनीतिः एक विहंगम दृष्टि
तिरु - कोच्चि
केरल राज्य मंत्रिमंडल


 

Photos
Photos
information
Souvenirs
 
     
Department of Tourism, Government of Kerala,
Park View, Thiruvananthapuram, Kerala, India - 695 033
Phone: +91-471-2321132 Fax: +91-471-2322279.

Tourist Information toll free No:1-800-425-4747
Tourist Alert Service No:9846300100
Email: info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org

All rights reserved © Kerala Tourism 1998. Copyright Terms of Use
Designed by Stark Communications, Hari & Das Design.
Developed & Maintained by Invis Multimedia