केरल के वन्यजीव

 

शताब्दियों तक हमारे वन्यजीवन प्राणी-वैज्ञानिकों को आकर्षित करते रहे हैं जो यहां आकर केरल के अनेक देशज प्रजातियों के जीवजंतुओं से परिचित हुए। कईयों ने तो केरल की तुलना यहां फलने-फूलने वाली जैव-प्रजातियों की विविधता के कारण गार्डन ऑफ ईडन से की है। केरल की विशिष्ट भौगोलिक विशेषताओं ने लंबे समय तक इसमें योगदान दिया है। विस्तृत तटरेखा और राज्य में फैली अनेक झीलों के साथ अनुकूल जलवायु और पर्वत श्रृंखलाओं ने अनगिनत प्रजातियों के जीने के लिए सुरक्षित स्वर्ग प्रदान किए हैं और उन्हें वर्षों के दौरान विकसित होने के अवसर उपलब्ध कराए हैं। अब हम आपको हमारे खूबसूरत वन्यजीव की हाई रेजॉल्यूशन तस्वीरें उपलब्ध कराएंगे जिनमें नीलगिरि ताहर जैसी विशिष्ट प्रजाति से लेकर विशालकाय हाथी तक शामिल हैं। ये आपको बताएंगे कि हमारे जंगलों ने आपके लिए क्या कुछ सुरक्षित रखा है।

District Tourism Promotion Councils KTDC Thenmala Ecotourism Promotion Society BRDC Sargaalaya SIHMK Responsible Tourism Tourfed KITTS Adventure Tourism Muziris Heritage KTIL

टॉल फ्री नंबर: 1-800-425-4747 (केवल भारत में)

डिपार्टमेंट ऑफ़ टूरिज्म, गवर्नमेंट ऑफ़ केरल, पार्क व्यू, तिरुवनंतपुरम, केरल, भारत - 695 033
फोन: +91 471 2321132, फैक्स: +91 471 2322279, ई-मेल info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org.
सर्वाधिकार सुरक्षित © केरल टूरिज्म 2017. कॉपीराइट | प्रयोग की शर्तें. | इनविस मल्टीमीडिया द्वारा विकसित व अनुरक्षित.