आयुर्वेदिक चिकित्सा कार्यक्रम

 
Therapeutic Programmes

आयुर्वेद में नियमित आधार पर एक व्यापक प्रकार के रोगों को शामिल किया गया है। यह शरीर के मूल समस्याओं पर बल देता है और शरीर का उपचार एक समग्र ईकाई के रूप में करता है। नीचे हमने कुछ विशिष्ट प्रकार के रोगों के उपचार विधियों की अनुशंसा की है।

‘धारा’ पुराने सिरदर्द, अनिद्रा (इनसोम्निया), मानसिक तनाव, हिस्टीरिया, विभ्रम (हैल्युसिनेशन) और पागलपन का उपचार है।

‘स्नेहपानम’ ऑस्टियो आर्थ्राइटिस, ल्यूकोमिया आदि का उपचार है।

‘सिरोवस्ति या  शिरोवस्ति’ नाक, मुंह, गला के सूखने, गंभीर सिरदर्द, चेहरे का लकवा और सिर में जलन की उपचार विधि है।

‘पिषिच्चिल या पिझिचिल’ स्पॉन्डिलाइटिस, रूमेटिक (वात संबंधी) रोगों जैसे आर्थ्राइटिस (गठिया), पैरालिसिस, हेमीप्लेजिया, नर्व की कमजोरी और नर्व संबंधी अन्य रोगों का उपचार है।

‘उद्वर्तनम’ हेमीप्लेजिया, पैरालिसिस, मोटापा और कुछ रूमेटिक (वात संबंधी) रोगों की उपचार विधि है।

‘मर्म चिकित्सा’ चोट या दुर्घटना के कारण मांसपेशी और कंकाल तंत्र संबंधी रोगों का उपचार है।

‘नस्यम’ नाक के रोगों का उपचार है।

‘कर्णपूरणम’ कान के रोगों की उपचार विधि है।

‘तर्पणम’ मोतियाबिंद का उपचार है और इससे नजर मजबूत होती है।

‘नवरकिषि या न्जवरकिझी (Njavarakizhi)’ मांसपेशी, वात रोग, खेल में लगने वाली चोट, जोड़ों का दर्द, शारीरिक दुर्बलता और कुछ खास प्रकार के त्वचा रोगों का उपचार है।

कृपया ध्यान दें


  1. आयुर्वेदिक चिकित्सक प्रत्येक रोगी का मूल्यांकन करने के लिए एक विशेष कार्यक्रम पर विचार करेंगे।

  2. पीठ दर्द, मांसपेशी के दर्द आदि जैसे छोटे-मोटे रोगों की अल्पकालिक चिकित्सा है जिसमें हर्बल स्टीम बाथ, स्पाइनल बाथ और चिकित्सीय मालिश का सहारा लिया जाता है जो केवल चिकित्सक की सलाह पर की जाती है।

  3. महिलाओं के मसाज और दूसरी चिकित्सा के लिए महिला चिकित्सक होती हैं।

  4. कुछ पद्धतियां अधिक उम्रदराज लोगों, कम उम्र के बच्चों (7 साल से कम उम्र), हृदय रोगियों और गर्भवती महिलाओं के लिए उपयुक्त नहीं होती।

  5. यदि आप पहले से किसी रोग के उपचार से गुजरे हों या आपको हृदय की समस्या, रक्त चाप, ब्लड शुगर, पुराना त्वचा रोग या अस्थमा हो तो कृपया अपने चिकित्सक को पहले से इस बारे में बता दें।

  6. पहले से स्थान आरक्षित करा लेने की सलाह दी जाती है।


District Tourism Promotion Councils KTDC Thenmala Ecotourism Promotion Society BRDC Sargaalaya SIHMK Responsible Tourism Tourfed KITTS Adventure Tourism Muziris Heritage KTIL

टॉल फ्री नंबर: 1-800-425-4747 (केवल भारत में)

डिपार्टमेंट ऑफ़ टूरिज्म, गवर्नमेंट ऑफ़ केरल, पार्क व्यू, तिरुवनंतपुरम, केरल, भारत - 695 033
फोन: +91 471 2321132, फैक्स: +91 471 2322279, ई-मेल info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org.
सर्वाधिकार सुरक्षित © केरल टूरिज्म 2017. कॉपीराइट | प्रयोग की शर्तें. | इनविस मल्टीमीडिया द्वारा विकसित व अनुरक्षित.