पषश्शि समाधिस्थल, वायनाड

 

पषश्शि समाधिस्थल पर हजारों लोग केरल के शेर - केरला वर्मा पषश्शि राजा को श्रद्धांजलि देने आते हैं। इस समाधिस्थल का निर्माण उसी स्थल पर किया गया है जहां उस वीर शहीद के पार्थिव शरीर की अंत्येष्टि की गई थी और यह स्थान मानन्तवाडी में कबनी नदी के किनारे स्थित है।

मार्च 1996 में इस समाधिस्थल को म्यूजियम में तब्दील किया गया और आज यह केरल के ऐसे केंद्रों में शुमार है जहां दूर-दूर से इतिहासकार, शोधार्थी और छात्र अध्ययन हेतु पहुंचते हैं।

इस म्यूजियम में पषश्शि राजा की तलवार और केरल के सांस्कृतिक इतिहास की अन्य सूचनाएं मौजूद हैं। इस स्मारक का प्रबंधन केरल राज्य पुरातत्व विभाग के हाथों में है।

वीर पषश्शि राजा भारतीय उपमहाद्वीप के उन गिनेचुने शासकों में थे जो ब्रिटिश हुकूमत पर सैन्य बढ़त पाने में कामयाब रहे थे। उन्हें अपने अंत तक उनकी देश और लोगों के प्रति प्यार और निष्ठा के लिए याद किया जाता है। पुल्पल्ली गुफा वह जगह थी जहां उन्होंने ब्रिटिश सैनिकों के हाथों पड़ने से पहले तक शरण ले रखी थी।

यहां पहुंचने के लिए

नजदीकी रेलवे स्टेशन: वडकरा, लगभग 51 किमी और कोष़िक्कोड, लगभग 66 किमी दूरी पर हैं |

अवस्थिति

अक्षांश: 11.800986, देशांतर: 76.002311

District Tourism Promotion Councils KTDC Thenmala Ecotourism Promotion Society BRDC Sargaalaya SIHMK Responsible Tourism Tourfed KITTS Adventure Tourism Muziris Heritage KTIL

टॉल फ्री नंबर: 1-800-425-4747 (केवल भारत में)

डिपार्टमेंट ऑफ़ टूरिज्म, गवर्नमेंट ऑफ़ केरल, पार्क व्यू, तिरुवनंतपुरम, केरल, भारत - 695 033
फोन: +91 471 2321132, फैक्स: +91 471 2322279, ई-मेल info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org.
सर्वाधिकार सुरक्षित © केरल टूरिज्म 2017. कॉपीराइट | प्रयोग की शर्तें. | इनविस मल्टीमीडिया द्वारा विकसित व अनुरक्षित.