Trade Media
     

कला एवं संस्कृति

केरल की कला-सांस्कृतिक परम्पराएँ शताब्दियाँ पुरानी हैं । केरल के सांस्कृतिक जीवन में महत्वपूर्ण योग देने वाले कलारूपों में लोक कलाओं, अनुष्ठान कलाओं और मंदिर कलाओं से लेकर आधुनिक कलारूपों तक की भूमिका उल्लेख्य है । केरलीय कलाओं को सामान्यतः दो वर्गों में बाँट सकते हैं - एक दृश्य कला और दो श्रव्य कला जिनमें दृश्य कला के अन्तर्गत रंगकलाएँ, अनुष्ठान कलाएँ, चित्र कला और सिनेमा आते हैं ।

रंग कलाएँ
केरलीय रंग कलाओं को धार्मिक, विनोदपरक, सामाजिक, कायिक आदि भागों में विभक्त कर सकते हैं । धार्मिक कलाओं में मंदिर कलाएँ और अनुष्ठान कलाएँ सम्मिलित होती हैं । मन्दिर कलाओं की सूची लम्बी है । जैसे - कूत्तु, कूडियाट्टम, कथकलि, तुळ्ळल, तिटम्बु नृत्तम, अय्यप्पन कूत्तु, अर्जुन नृत्य, आण्डियाट्टम, पाठकम्, कृष्णनाट्टम, कावडियाट्टम आदि । इनमें  मोहिनियाट्टम जैसा लास्य नृत्य भी आता है । अनुष्ठान कलाएँ भी अनेक हैं । जैसे - तेय्यम, तिरा, पूरक्कलि, तीयाट्टु, मुडियेट्टु, कालियूट्टु, परणेट्टु, तूक्कम्, पडयणि (पडेनि), कलम पाट्ट, केन्द्रोन पाट्ट, गन्धर्वन तुळ्ळल, बलिक्कळा, सर्पप्पाट्टु, मलयन केट्टु  आदि । अनुष्ठान कलाओं से जुड़ा अनुष्ठान कला साहित्य भी है ।

सामाजिक कलाओं में यात्रक्कलि, एष़ामुत्तिक्कळि, मार्गम कळि, ओप्पना आदि आती हे तो कायिक कलाओं में ओणत्तल्लु, परिचमुट्टुकळि, कळरिप्पयट्टु आदि आती हैं । केवल मनोविनोद को लक्ष्य मानकर जो कलाएँ प्रस्तुत की जाती हैं वे हैं - काक्कारिश्शि नाटक, पोराट्टुकळि, तोलप्पावक्कूत्तु, ञाणिन्मेल्कळि आदि । इन सबके अतिरिक्त आधुनिक जनप्रिय कलाओं का भी विकास हुआ है जो इस प्रकार हैं - आधुनिक नाट्यमंच, चलचित्र, कथाप्रसंगम्  (कथा कथन एवं गायन), गानोत्सव, मिमिक्रि आदि ।

अनुष्ठान कलाओं में कई तो नाटक हैं । ऐसे लोकनाट्य भी हैं जो अनुष्ठानपरक न होकर केवल मनोविनोद के लिए हैं । उदाहरण हैं - कुरत्तियाट्टम, पोराट्टुनाटक, काक्कारिश्शि नाटक, पोराट्टु के ही भेद हैं पान्कळि, आर्यम्माला आदि । वैसे ही मुटियेट्टु, अय्यप्पनकूत्तु, तेय्यम आदि अनुष्ठानपरक लोकनाट्य हैं । कोतामूरियाट्टम नाटक में अनुष्ठान कला का अंश बहुत ही कम है ।

उत्तरी केरल के गिरिवर्गों में प्रचलित सीतक्कळि, पत्तनंतिट्टा के मलवेटर के पोरामाटि, वयनाड के आदिवासी वर्गों के गद्दिका, कुळ्ळियाट्टु, वेळ्ळाट्टु आदि मांत्रिक कर्म एक प्रकार के लोकनाट्य हैं । इन्हीं के अन्तर्गत आनेवाले दूसरे लोकनाट्य हैं - कण्यार कळि, पूतमकळि, कुम्माट्टि, ऐवरनाटक, कुतिरक्कळि, वण्णानकूत्तु, मलयिक्कूत्तु आदि ।

तेय्यम् और तिरा
पेरुंकळियाट्टम
उरियाट्टम्
मुडियेट्टु
केन्त्रोन पाट्टु
कोतामुरियाट्टम
केरलीय चित्रकला
गुफा चित्र
भित्तिचित्र
आधुनिक चित्रकला
कोलमेष़ुत्तु
मुखत्तेषु़त्तु
कळमेष़ुत्तु
पद्मम्
वास्तु कला
सिनेमा
संगीत


 

Photos
Photos
information
Souvenirs
 
     
Department of Tourism, Government of Kerala,
Park View, Thiruvananthapuram, Kerala, India - 695 033
Phone: +91-471-2321132 Fax: +91-471-2322279.

Tourist Information toll free No:1-800-425-4747
Tourist Alert Service No:9846300100
Email: info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org

All rights reserved © Kerala Tourism 1998. Copyright Terms of Use
Designed by Stark Communications, Hari & Das Design.
Developed & Maintained by Invis Multimedia