नीलकुरिंजी फूल का फूलना

 

वर्ष 2018 में मून्नार की खूबसूरत पहाड़ियाँ एक बार फिर दुनिया भर के सैलानियों से गुलजार हो उठेगी, जो एक ख़ास घटना का गवाह बनाती है। दरअसल इस समय नीलकुरिंजी फूल फूलेंगे जो 12 वर्षों में एक बार फूलते हैं और आप इसका खूबसूरत नज़ारा केवल मून्नार में पा सकते हैं।

नीलकुरिंजी या ‘स्ट्रोबिलांतेस  कुंतियानम’ की 40 प्रजातियां पाई जाती हैं, उनमें से ज्यादातर नीले रंग की होती है। ‘नील’ का शाब्दिक अर्थ है ‘ब्लू’ और कुरिंजी नाम इस क्षेत्र के आदिवासियों द्वारा दिया गया नाम है। पिछली बार ये फूल वर्ष 2006 में दिखाई पड़े थे। इनके फूलने का समय अगस्त में आरंभ होता है और यह अक्टूबर तक रहता है। मून्नार में, आप इस अद्भुत नज़ारे को कोविलूर, कडवरि, राजमला तथा इरविकुलम नैशनल पार्क से देख सकते हैं। इरविकुलम दरअसल संकटापन्न नीलगिरि तहर (Tahr) का स्थान है। इस जाति के ज्यादातर जंतु यहीं पाए जाते हैं।

वनस्पति-वैज्ञानिकों तथा प्रकृति प्रेमियों को इस घटना का बेसब्री से इंतजार रहता है। नीलकुरिंजी के बीच आप एक बिल्कुल अलग आयाम में चल जाते हैं। आप यहाँ छोटी प्रजाति (लगभग 2 फीट) को ऊंची क्षेत्र में और लंबी प्रजाति (लगभग 5 से 10 फीट की) को निचला क्षत्र में दीदार कर सकते हैं। इस क्षेत्र में इस समय इस दुर्लभ नज़ारे का आनंद लेने के लिए विशेष टूर की व्यवस्था की जाती है और ट्रेकिंग का आयोजन किया जाता है। यह  ऐसी स्वर्गिक झलकियाँ प्रदान करता है जो  12 वर्ष में केवल एक बार आता है।

यहां पहुंचने के लिए

नजदीकी रेलवे स्टेशन: अंगमालि, लगभग 109 कि.मी.; एरणाकुलम, लगभग 145 कि.मी. की दूरी पर है | नजदीकी एयरपोर्ट: कोच्चिन इंटरनेशनल एयरपोर्ट, लगभग 110 कि.मी. की दूरी पर है |

अवस्थिति

अक्षांश: 10.095966, देशांतर: 77.058392

District Tourism Promotion Councils KTDC Thenmala Ecotourism Promotion Society BRDC Sargaalaya SIHMK Responsible Tourism Tourfed KITTS Adventure Tourism Muziris Heritage KTIL

टॉल फ्री नंबर: 1-800-425-4747 (केवल भारत में)

डिपार्टमेंट ऑफ़ टूरिज्म, गवर्नमेंट ऑफ़ केरल, पार्क व्यू, तिरुवनंतपुरम, केरल, भारत - 695 033
फोन: +91 471 2321132, फैक्स: +91 471 2322279, ई-मेल info@keralatourism.org, deptour@keralatourism.org.
सर्वाधिकार सुरक्षित © केरल टूरिज्म 2017. कॉपीराइट | प्रयोग की शर्तें. | इनविस मल्टीमीडिया द्वारा विकसित व अनुरक्षित.